विचार बनाएं जिंदगी - You'll Become What You Think in Hindi





जी हाँ “विचार बनाएं जिंदगी”. जैसा सोचोगे वैसा पाओगेयह बिलकुल सच है. परन्तु ऐसा क्यों होता हैउत्तर बिलकुल आसन है. जब हम किसी भी चीज़ के बारे में सोचते हैं तो उस चीज़ की एक तस्वीर हमारे दिमाग में उभरती है. जितनी गहराई से हम किसी चीज़ के बारे में सोचेंगे उतनी ही गहरी यह तस्वीर उभरेगी. जितनी गहरी ये तस्वीर होगी उतना ही ज्यादा जल्दी और आसानी से हम उस चीज़ को प्राप्त कर लेंगे. 

अर्थात जो हम सोचते हैं वही हम पाते हैं या यूँ कहें की जैसा हम सोचते हैं वही हम बन जाते हैं. ऐसा क्यों होता हैक्योंकि हम सब के साथ एक अनंत शक्ति है. जिसे हम कुदरत कह सकते हैं. या फिर भगवान भी. और यही शक्ति हमें वह सब कुछ दिलाती है जो हम सोचते हैं. 

क्योंकि जब हम किसी चीज़ के बारे में गहराई से सोचते हैं तो हमारे दिमाग से एक विशेष प्रकार की तरंगें बाहर की और प्रवाहित होती हैं. यह तरंगें अपनी समान तरंगों को अपनी और आकर्षित करती हैं. और फिर एक समय आता है जब हम उस चीज़ को प्राप्त कर लेते हैं. टोयोटा कम्पनी ने एक विशेष प्रकार की व्हीलचेयर बनाई है जो उस पर बैठने वाले व्यक्ति के सोचने से चलती है. आपको कोई बटन नहीं दबाना होता. एक और कम्पनी ने एक विशेष प्रकार का हेड-फोन (head-phone) बनाया है जिसे पहन कर आप बिना छुए केवल अपनी सोच की शक्ति से अपना कंप्यूटर ऑपरेट कर सकते हैं. यह सिद्ध करता है कि सोचने से हमारा दिमाग एक विशेष प्रकार की तरंगें प्रेषित करता है जिनकी फ्रीक्वेंसी को वैज्ञानिक तरीके से मापा जा सकता है.

ज़रा सोचियेऐसा क्यों है की विश्व की कुल आय का 96 प्रतिशत भाग दुनिया के केवल प्रतिशत लोग ही कमा रहे हैं. यह सब सोच का कमाल है कोई संयोग नहीं है. पुराने समय के सफल लोगों ने विचारों की इस शक्ति (आकर्षण का सिद्धांत)  को दुनिया की पहुँच से दूर एक राज़ बना कर रखा. अमीर लोग और भी सफल होते गए तथा आम आदमी को कभी इसका कारण ही समझ नहीं आया. यदि हम अपने दिमाग की इस अपरिमित शक्ति को जान जाएँ और इस शक्ति की असीम उर्जा को सही दिशा में प्रवाहित करेंतो हम बड़े से बड़े कार्य आसानी से कर सकते हैं, जो चाहें उसे प्राप्त कर सकते हैं तथा जो चाहें बन सकते हैं.

जैसा की मैंने ऊपर कहा है कि जब हम किसी भी चीज़ के बारे में सोचते हैं तो उस चीज़ की एक तस्वीर हमारे दिमाग में उभरती है. और जैसे जैसे हमारा ध्यान इस तस्वीर की और केन्द्रित होता जाता हैवैसे वैसे हम उस चीज़ को अपनी और आकर्षित करते हैं. यही तो है "आकर्षण का सिद्धांत". इस सिद्धांत को हम मानें या न मानें, जानें या ना जानें, यह लगातार अपना कार्य करता है. ठीक उसी प्रकार जैसे "गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत" हमारे मानने या ना मानने की परवाह किये बिना लगातार अपना कार्य करता है.

"आकर्षण का सिद्धांत" कोई जादू नहीं हैपर यह किसी जादू से कम भी नहीं है. हम किसी चीज़ को चाहें या ना चाहेंपर हम जो सोचते हैं वही हम पाते हैं. हमारी सोच में जो ना शब्द है, उसका इस सिद्धांत के लिए कोई अर्थ नहीं है. यह तो बस इतना जानता है कि हम किस वस्तु के बारे में सोचते हैं. उसी वस्तु की तस्वीर हमारा दिमाग बनाता है और उसी की तरंगें प्रसारित करता है. यदि कोई हमें कहे कि आज आप टीवी मत देखनातो सबसे पहले हमारे दिमाग में टीवी की तस्वीर उभरती है. चाहे हमें यह कहा जा रहा है की टीवी नहीं देखना. जब हम किसी चीज़ के बारे में गहराई से सोचते हैं तो हमारे दिमाग की साड़ी उर्जा उस चीज़ की छवि पर केन्द्रित हो जाती है और धीरे धीरे, हमें उसे पाने के अनेकों रास्ते भी सूझने लगते हैं. अर्थात "विचार बनाएं जिंदगी".

अब आप यह पूछेंगे की यदि किसी भी वस्तु के बारे में सोचने भर से हम उसे प्राप्त कर सकते हैं तो फिर दुनिया भर के लोग वह क्यों नहीं पा लेते जो वे पाना चाहते हैंउत्तर बिलकुल आसान है. असफलताओं से डरते हुए उनके बारे में सोचते हैं. अक्सर हम उन चीज़ों के बारे में अधिक सोचते हैं जो हम नहीं चाहते. हम गरीबी के बारे मेंबिमारी के बारे मेंया अन्य किसी नकारात्मक बात के बारे में सोचते हैंऔर वही हमें मिलता है. सवाल यह नहीं है के हम किसी चीज़ को चाहते हैं या नहींमहत्वपूर्ण यह है कि हम क्या सोचते हैं.

आपकी सोच सकारात्मक हो सकती है या नकारात्मक,अच्छी या बुरी, छोटी या बड़ी. नकारात्मक सोच के नतीज़े नकारात्मक होंगे तो सकारात्मक सोच के सकारात्मक, सोच अच्छी है तो नतीज़े भी अच्छे ही होंगे अन्यथा बुरे. सोच बड़ी होगी तभी नतीज़े भी बड़े होंगे. यह सब बातें हम अपने अगले आर्टिकल्स में डिस्कस करेंगे. तब तक अच्छा सोचिये, बड़ा सोचिये और हाँ सकारात्मक सोचिये और याद रखिये "विचार बनाएं जिंदगी".

साभार - B.M. Agrawal Sir 




दोस्तो कोचिंग संस्थान के बिना अपने दम पर Self Studies करें और महत्वपूर्ण पुस्तको का अध्ययन करें , हम आपको Civil Services के लिये महत्वपूर्ण पुस्तकों की सुची उपलब्ध करा रहे है –
तो दोस्तो अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस Facebook पर Share अवश्य करें ! अब आप हमें Facebook पर Follow कर सकते है !  क्रपया कमेंट के माध्यम से बताऐं के ये पोस्ट आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thanks !

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Thank You